नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में हम आपको बताने जा रहे हैं कि आप दिल्ली से उत्तराखंड में स्थित तुम नाथ मंदिर तक कैसे पहुंच सकते हैं, हम आपको बताएंगे कि आपको वहां जाने में कितना समय लगेगा। आज मैं आपको रुद्रप्रयाग जिले में पहाड़ों के बीच स्थित एक प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर के बारे में बताऊंगा। जिसे तुंगनाथ के नाम से जाना जाता है।

तुंगनाथ भारत के उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित एक हिंदू मंदिर है। यह समुद्र तल से लगभग 3,680 मीटर (12,073 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है और दुनिया का सबसे ऊंचा शिव मंदिर है। तुंगनाथ पंच केदार मंदिरों में से एक है, जो हिंदू देवता शिव को समर्पित हैं। मंदिर तुंगनाथ पर्वत श्रृंखला में स्थित है, जो गढ़वाल हिमालय का हिस्सा है।

तुंगनाथ एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है और अपनी प्राकृतिक सुंदरता और आध्यात्मिक महत्व के लिए जाना जाता है। मंदिर में हर साल हजारों भक्त आते हैं, खासकर अप्रैल-जून के चरम मौसम के दौरान। मंदिर ट्रेकिंग और अन्य साहसिक खेलों के लिए भी एक लोकप्रिय आधार है।

तुंगनाथ मंदिर के बारे में कुछ जानकारी ओर इतिहास?

तुंगनाथ मंदिर 1000 साल पुराना है और शिव को समर्पित है। समुद्र तल से 3680 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस मंदिर का निर्माण पांडवों ने करवाया था। यह मंदिर बेहद खूबसूरत वास्तुकला से बना है और इसके आसपास कई मंदिर हैं जो बहुत ही अद्भुत हैं।

बरसात के मौसम में, शिव की मूर्ति को हटाकर चोपता के तुंगनाथ मंदिर में स्थापित कर दिया जाता है। और जैसे ही बारिश खत्म हो जाती है, शिव की मूर्ति को वापस तुंगनाथ मंदिर में ढोल दमऊ के साथ स्थापित कर दिया जाता है। तुंगनाथ की रचना बहुत ही अद्भुत है। पत्थरों से सजा यह मंदिर देखने में बेहद आकर्षक लगता है।

तुंगनाथ में सर्दियों के महीनों के दौरान ठंड और बर्फीली जलवायु होती है, जबकि गर्मियों के महीनों के दौरान यह सुखद और ठंडा रहता है। तुंगनाथ की यात्रा के दौरान विशेष रूप से सर्दियों के महीनों में गर्म कपड़े और अन्य आवश्यक सामान ले जाने की सलाह दी जाती है। तुंगनाथ का निकटतम शहर उखीमठ है, जो लगभग 14 किलोमीटर दूर है। तुंगनाथ का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो लगभग 279 किलोमीटर दूर है। तुंगनाथ का निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश है, जो लगभग 246 किलोमीटर दूर है।

दिल्ली से तुंगनाथ मंदिर कैसे पहुंचे | समय और दूरी | होटल | लागत
दिल्ली से तुंगनाथ मंदिर कैसे पहुंचे | समय और दूरी | होटल | लागत

तुंगनाथ क्यों प्रसिद्ध है?

तुंगनाथ मंदिर एक हिंदू मंदिर है, जो भारत के उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है। यह पंच केदार मंदिरों में से एक है, और इसे 3,680 मीटर (12,073 फीट) की ऊंचाई के साथ दुनिया का सबसे ऊंचा शिव मंदिर माना जाता है। यह मंदिर हिमालय के गढ़वाल क्षेत्र के चमोली जिले में स्थित है, और माना जाता है कि यह 1,000 वर्ष से अधिक पुराना है।

तुंगनाथ हिमालय में अपने खूबसूरत स्थान और हिंदू मंदिर के रूप में इसके आध्यात्मिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है। मंदिर कई तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को आकर्षित करता है जो मंदिर में पूजा करने वाले देवता भगवान शिव के दर्शन करने और उनका सम्मान करने के लिए आते हैं। मंदिर ट्रेकर्स और साहसिक उत्साही लोगों के बीच भी लोकप्रिय है, क्योंकि यह ऊंचाई पर स्थित है।

तुंगनाथ में घूमने का सबसे अच्छा समय

यदि आप दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए तुंगनाथ की यात्रा करना चाहते हैं और जगह की प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेना चाहते हैं, तो यात्रा करने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से जून और सितंबर से नवंबर तक है। इन महीनों के दौरान, मौसम सुखद और बाहरी गतिविधियों के लिए आदर्श होता है। क्योंकि नवंबर के बाद से मार्च तक तुंगनाथ मंदिर और चंद्रशिला बर्फ से ढके रहते हैं। आप यहां केदारनाथ या बद्रीनाथ के साथ भी प्लान कर सकते हैं। तापमान 15 डिग्री सेल्सियस से 25 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है, जिससे जगह का पता लगाना आसान हो जाता है।

यदि आप ट्रेकिंग और अन्य साहसिक गतिविधियों के लिए तुंगनाथ की यात्रा करना चाहते हैं, तो यात्रा करने का सबसे अच्छा समय मई से जून और सितंबर से नवंबर तक है। इन महीनों के दौरान, मौसम साफ और शुष्क होता है, जो इसे ट्रेकिंग और अन्य बाहरी गतिविधियों के लिए आदर्श बनाता है।

तुंगनाथ मंदिर कैसे पहुंचे?

तुंगनाथ मंदिर तक पहुँचने के लिए आपको ट्रेनों में सीमित मात्रा में बसें, टैक्सी और हवाई जहाज मिलेंगे। आपको बस या टैक्सी आसानी से मिल जाएगी। लेकिन अगर आप ट्रेन या प्लेन से जाना चाहते हैं तो यात्रा सीमित होगी। और आधी यात्रा आपको बस या टैक्सी से ही करनी होगी क्योंकि पहाड़ों में स्थित तुंगनाथ मंदिर में ट्रेन और हवाई जहाज की सुविधा उपलब्ध नहीं है, इसलिए आपको यहाँ पहुँचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन या हवाई पट्टी का उपयोग करना होगा, तो विस्तार से नीचे दिया है

सड़क मार्ग से तुंगनाथ मंदिर कैसे पहुंचे?

दोस्तों अगर आप सड़क मार्ग से तुंगनाथ मंदिर जाना चाहते हैं तो तुंगनाथ मंदिर सभी शहरों से अच्छी सड़कों से जुड़ा हुआ है, आप चाहें तो अपने निजी वाहन या राज्य के वाहनों से तुंगनाथ मंदिर पहुंच सकते हैं। कुछ निजी बसें भी देहरादून, हरिद्वार और ऋषिकेश से चलती हैं जैसे हिमगिरी और विश्वनाथ। आप उनसे भी आ सकते हैं। दिल्ली से तुंगनाथ मंदिर सड़क माध्यम से जाने में लगभग 10 hr 38 min का समय लगेगा जिसकी दूरी 472.7 km तक है।

ट्रेन से तुंगनाथ मंदिर कैसे पहुंचे?

दोस्तों अगर आपने रेल मार्ग से दिल्ली से तुंगनाथ मंदिर की यात्रा करने का सोचा है तो आपको बता दूं कि तुंगनाथ मंदिर का निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश में स्थित है, जो तुंगनाथ से 209 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। ऋषिकेश से.

बस या टैक्सी आसानी से उपलब्ध है। जिससे आप आराम से तुंगनाथ मंदिर की यात्रा कर सकेंगे। ट्रेन सुविधा उपलब्ध नहीं है। उम्मीद है कि कुछ साल बाद ट्रेन की सुविधा उपलब्ध हो जाएगी।

हवाई मार्ग से तुंगनाथ मंदिर कैसे पहुंचे?

दोस्तों अगर आप हवाई जहाज से तुंगनाथ मंदिर पहुंचना चाहते हैं तो इसका सबसे अच्छा और नजदीकी हवाई अड्डा देहरादून के जौली ग्रांट में है। और अगर आपको अपने शहर से देहरादून के लिए सीधी उड़ान नहीं मिलती है, तो आप दिल्ली हवाई अड्डे पर आकर हवाई जहाज से देहरादून की यात्रा कर सकेंगे। हवाई यात्रा भी देहरादून तक ही सीमित रहेगी। और आपको आगे का रास्ता सड़क मार्ग से पूरा करना होगा। क्योंकि पहाड़ों में अभी हवाई पट्टी की सुविधा नहीं है।

तुंगनाथ मंदिर तक पैदल यात्रा

तुंगनाथ मंदिर तक की पैदल ट्रेक लगभग 3.5 किमी है। इस मामूली ट्रेक द्वारा तुंगनाथ मंदिर तक आसानी से पहुंचा जा सकता है। यह सर्दियों मे बहुत ज्यादा बर्फबारी होती है, जिससे तुंगनाथ मंदिर पहुंचना बहुत मुश्किल हो जाता है। ट्रेक पर लगातार आराम के साथ चढ़ने में 2-3 घंटे लगते हैं।

दिल्ली से तुंगनाथ मंदिर की यात्रा का समय और दूरी

समय: अगर आपका रास्ता साफ है, यानी जाम नहीं होगा, तो यह आपको ले जाएगा 10 से 12 घंटे दिल्ली से तुंगनाथ पहुंचे। और अगर आप जाम हो जाते हैं तो आपको थोड़ा अधिक समय लगेगा।

दूरी: दिल्ली से तुंगनाथग की दूरी है 468 किमी. यदि आप बस से आते हैं तो आपको कनेक्टिंग बस पकड़नी होगी और यदि आप अपने वाहन से आते हैं तो आप बिना किसी परेशानी के आराम से पहुंच सकेंगे।

तुंगनाथ मंदिर में आप कहाँ ठहरे थे? | होटल | HomeStay

अगर आप तुंगनाथ के दर्शन करके और यहां के प्रमुख आकर्षणों को देखने के बाद यहां रुकना चाहते हैं, तो उत्तराखंड की इस खूबसूरत जगह के आसपास कम से लेकर ऊंचे दामों में होटल और लॉज उपलब्ध हैं। आप अपनी सुविधानुसार कोई भी होटल चुन सकते हैं।

यहां होटल में कमरे 1000 से 15,000 रुपए तक मिलते हैं और यहां आपको ₹600 में होम स्टे भी मिलता है और अगर आप यहां कैंपिंग टेंट में रहना चाहते हैं तो आपका खर्चा 1000 रुपए तक होगा।

आप एक बहुत छोटा क्षेत्र हैं और यहां बहुत सारे रेस्तरां नहीं हैं, लेकिन फिर भी, यहां के प्रसिद्ध व्यंजनों में से एक गेहूं और मडुवा के आटे में दाल भरकर बनाया गया भोजन है, जिसे भांग की चटनी के साथ परोसा जाता है।

तुंगनाथ एक बहुत ही धार्मिक स्थान है, इसलिए यहां आपको केवल शुद्ध शाकाहारी भोजन ही मिलेगा। जिस दिन आप तुंगनाथ मंदिर के दर्शन के लिए हरिद्वार पहुंचें। उसी दिन शाम को चोपता के लिए बस का टिकट बुक करें। उसके बाद चोपता आखिरी स्टेशन है। जहां से तुंगनाथ मंदिर का ट्रेक शुरू होता है। अपनी तरफ से पूरी कोशिश करें कि आप सुबह-सुबह हरिद्वार से निकल जाएं। ताकि अंधेरा होने से पहले आप चोपता के होटल में रुक सकें। अगले दिन सुबह 4 बजे तुंगनाथ मंदिर की चढ़ाई शुरू करें।

आप यहां जाकर चंद्रशिला भी जा सकते हैं तुंगनाथ मंदिर. चंद्रशिला तुंगनाथ गांव का शिखर बिंदु है, क्योंकि चंद्रशिला शब्द का अर्थ मून रॉक है। चंद्रशिला समुद्र तल से लगभग 4000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह एक आकर्षक पर्यटन स्थल है, पर्यटक यहां ट्रेकिंग करना पसंद करते हैं। और पर्यटक यहां के खूबसूरत नजारों का लुत्फ उठाते हैं, इसके अलावा आप यहां देवरिया ताल भी जा सकते हैं।

तुंगनाथ मंदिर से जुड़ी कुछ खास बातें?

  • अगर आप मंदिर के अंदर जा रहे हैं तो आपको बता दें कि मंदिर के अंदर फोटोग्राफी करना मना है।
  • मंदिर तक ट्रेकिंग करते समय आपको जूते, जैकेट, पानी और नियमित दवाएं अपने साथ ले जानी चाहिए।
  • तुंगनाथ मंदिर की ट्रेकिंग करते समय बर्फ के कारण फिसलने की संभावना है, इसलिए वाटरप्रूफ ट्रेकिंग शूज़ अपने साथ रखें।
  • ट्रेकिंग के दौरान अतिरिक्त सहायता के लिए आप एक छड़ी भी साथ ले जा सकते हैं।
  • तुंगनाथ ट्रेकिंग रूट पर आपके पास कोई चार्जिंग पॉइंट उपलब्ध नहीं है, इसलिए आपको अपने साथ एक पावर बैंक भी ले जाना चाहिए, और अपने फोन को पहले से पूरी तरह चार्ज करके रखना चाहिए।
  • और ट्रैकिंग रूट पर इसकी सीमित नेटवर्क कनेक्टिविटी है। और इंटरनेट कनेक्शन 2जी तक सीमित है।
  • तुंगनाथ की यात्रा के दौरान बारिश होने की प्रबल संभावना है, इसलिए आप अपने साथ रेनकोट भी लेकर आएं। जिससे आपको कोई परेशानी ना हो और आपका सामान भी सुरक्षित रहे।
  • तुंगनाथ मंदिर दर्शन के लिए सुबह 6:00 बजे से शाम 7:00 बजे तक खुला रहता है।

तुंगनाथ मंदिर के दर्शन और यात्रा की लागत क्या है?

तुंगनाथ मंदिर के दर्शन और दर्शन का खर्च लगभग ₹4000 से ₹5000 हजार प्रति व्यक्ति हो सकता है। यह खर्चा कम या ज्यादा आ सकता है।

तुंगनाथ यात्रा में कितना खर्च आएगा?

तुंगनाथ की यात्रा की लागत कई चीजों पर निर्भर करेगी, जिसमें आपके परिवहन के साधन, आवास और आपके वहां रहने के दौरान आपके द्वारा, की जाने वाली गतिविधियों की योजना शामिल है।

तुंगनाथ की यात्रा के दौरान आपके द्वारा खर्च किए जाने वाले खर्चों के कुछ अनुमान यहां दिए गए हैं:

  • परिवहन: यदि आप हवाई मार्ग से यात्रा कर रहे हैं, तो तुंगनाथ के निकटतम हवाई अड्डे देहरादून के लिए उड़ानों की लागत आपके प्रस्थान शहर और आपके द्वारा यात्रा किए जा रहे वर्ष के समय पर निर्भर करेगी। देहरादून से, आप तुंगनाथ तक पहुँचने के लिए टैक्सी या बस ले सकते हैं, जिसकी कीमत लगभग 1,000-1,500 ($13-20) है। यदि आप ट्रेन से यात्रा कर रहे हैं, तो देहरादून के लिए टिकट की कीमत कक्षा और तय की गई दूरी के आधार पर लगभग 500-1,000 ($ 7-13) होगी।
  • आवास: तुंगनाथ में ठहरने के कई विकल्प हैं, जिनमें बजट गेस्ट हाउस से लेकर लक्ज़री रिसॉर्ट शामिल हैं। आपके द्वारा चुने गए आवास के प्रकार के आधार पर कीमतें अलग-अलग होंगी। बजट आवास विकल्प लगभग INR 500-1,000 ($ 7-13) प्रति रात से शुरू होते हैं, जबकि लक्ज़री विकल्पों की कीमत INR 5,000 ($ 67) प्रति रात से अधिक हो सकती है।
  • गतिविधियाँ: तुंगनाथ में आप कई गतिविधियाँ कर सकते हैं, जैसे ट्रेकिंग, दर्शनीय स्थल और मंदिरों का भ्रमण। इनमें से कई गतिविधियां मुफ्त हैं या मामूली शुल्क है। तुंगनाथ मंदिर के लिए निर्देशित ट्रेक की लागत लगभग 1,000-1,500 ($ 13-20) हो सकती है।

कुल मिलाकर, आपकी यात्रा शैली और आपकी यात्रा की अवधि के आधार पर, तुंगनाथ की यात्रा का खर्च INR 3,000-10,000 ($40-133) या अधिक हो सकता है। अपने बजट की पहले से योजना बनाना और यात्रा के दौरान आने वाली किसी भी अतिरिक्त लागत पर विचार करना हमेशा एक अच्छा विचार है।

तुंगनाथ में घूमने की जगहें

तुंगनाथ में घूमने के लिए कुछ शीर्ष स्थान इस प्रकार हैं:

  • तुंगनाथ मंदिर: तुंगनाथ मंदिर दुनिया के सबसे ऊंचे मंदिरों में से एक है, जो 3,680 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह भगवान शिव को समर्पित है और हिंदुओं के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है।
  • चंद्रशिला चोटी: चंद्रशिला चोटी 4,000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक लोकप्रिय ट्रैकिंग स्थल है। यह आसपास के हिमालय पर्वतमाला के शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है और प्रकृति प्रेमियों के लिए एक शानदार जगह है।
  • देवरिया ताल: देवरिया ताल 2,438 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक खूबसूरत झील है। यह ऊंचे पेड़ों से घिरा हुआ है और हिमालय पर्वतमाला के लुभावने दृश्य प्रस्तुत करता है। आराम करने और शांतिपूर्ण परिवेश का आनंद लेने के लिए यह एक शानदार जगह है।
  • चोपता: चोपता केदारनाथ वन्यजीव अभयारण्य में स्थित एक छोटा हिल स्टेशन है। यह हिमालय पर्वतमाला के आश्चर्यजनक दृश्य प्रस्तुत करता है और ट्रेकिंग और दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है।
  • ऊखीमठ: ऊखीमठ उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित एक छोटा सा शहर है। यह अपने प्राचीन मंदिरों के लिए जाना जाता है और तीर्थयात्रियों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है।

तुंगनाथ में और उसके आसपास घूमने के लिए कई अन्य दिलचस्प स्थान हैं, जिनमें मदमहेश्वर मंदिर, कल्पेश्वर मंदिर और कुंजापुरी मंदिर शामिल हैं। इनमें से प्रत्येक स्थान एक अनूठा अनुभव प्रदान करता है और तुंगनाथ की यात्रा के दौरान देखने लायक है।

दिल्ली से तुंगनाथ कैसे पहुंचे?

तुंगनाथ भारत के उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित एक हिंदू मंदिर है। यदि आप दिल्ली से शुरू कर रहे हैं, तो तुंगनाथ पहुंचने के कई रास्ते हैं:

  • हवाईजहाज से: तुंगनाथ का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो लगभग 279 किलोमीटर दूर है। वहां से, आप तुंगनाथ पहुंचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या बस ले सकते हैं।
  • ट्रेन से: तुंगनाथ का निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश है, जो लगभग 246 किलोमीटर दूर है। वहां से, आप तुंगनाथ पहुंचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या बस ले सकते हैं।
  • बस द्वारा: दिल्ली से तुंगनाथ के लिए कई सरकारी और निजी बसें चलती हैं। यात्रा में लगभग 10-12 घंटे लगते हैं और किराया INR 500-1000 (बस के प्रकार के आधार पर) होता है।
  • कार द्वारा: आप दिल्ली से तुंगनाथ भी ड्राइव कर सकते हैं। दूरी लगभग 358 किलोमीटर है और कार द्वारा यात्रा में लगभग 8-9 घंटे लगते हैं।

हमेशा अपनी यात्रा की योजना पहले ही बना लें और अपनी यात्रा शुरू करने से पहले होटल या होमस्टे जैसी आवश्यक व्यवस्था कर लें। गर्म कपड़े और अन्य आवश्यक सामान ले जाना भी एक अच्छा विचार है, क्योंकि तुंगनाथ में मौसम काफी ठंडा हो सकता है, खासकर सर्दियों के महीनों के दौरान।

तुंगनाथ से दिल्ली मार्ग के बीच के स्थान?

तुंगनाथ से दिल्ली के रास्ते में आप कई जगहों की यात्रा कर सकते हैं। कुछ उल्लेखनीय स्थान हैं:

  • चोपता: चोपता उत्तराखंड के उत्तरी राज्य में स्थित एक छोटा हिल स्टेशन है। यह अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है और ट्रेकिंग और अन्य साहसिक खेलों के लिए एक लोकप्रिय आधार है।
  • ऊखीमठ: ऊखीमठ उत्तराखंड के उत्तरी राज्य में स्थित एक शहर है। यह अपने मंदिरों के लिए जाना जाता है, जैसे कि मध्यमहेश्वर मंदिर और ओंकारेश्वर मंदिर, और ट्रेकिंग और अन्य साहसिक खेलों के लिए भी एक लोकप्रिय आधार है।
  • रुद्रप्रयाग: रुद्रप्रयाग उत्तराखंड के उत्तरी राज्य में स्थित एक शहर है। यह अलकनंदा नदी के पांच प्रयागों (संगम) में से एक है और रुद्रनाथ मंदिर और चामुंडा मंदिर जैसे मंदिरों के लिए जाना जाता है।
  • श्रीनगर: श्रीनगर उत्तराखंड के उत्तरी राज्य में स्थित एक शहर है। यह अपने मंदिरों, जैसे चंद्रबदनी मंदिर और कुंजापुरी मंदिर के लिए जाना जाता है, और ट्रेकिंग और अन्य साहसिक खेलों के लिए भी एक लोकप्रिय आधार है।
  • देवप्रयाग: देवप्रयाग उत्तराखंड के उत्तरी राज्य में स्थित एक शहर है। यह अलकनंदा नदी के पांच प्रयागों (संगम) में से एक है और इसे हिंदू धर्म में एक पवित्र स्थान माना जाता है।
  • ऋषिकेश: ऋषिकेश गंगा नदी के तट पर, उत्तराखंड के उत्तरी राज्य में स्थित एक शहर है। यह अपने मंदिरों, आश्रमों और साहसिक खेलों जैसे राफ्टिंग और बंजी जंपिंग के लिए जाना जाता है।
  • हरिद्वार: हरिद्वार उत्तराखंड के उत्तरी राज्य में स्थित एक शहर है। यह हिंदू धर्म के सात सबसे पवित्र स्थानों में से एक है और गंगा आरती समारोह के लिए जाना जाता है, जो हर शाम गंगा नदी के तट पर आयोजित किया जाता है।
  • देहरादून: देहरादून उत्तराखंड की राजधानी है। यह अपने शैक्षिक संस्थानों के लिए जाना जाता है और वन अनुसंधान संस्थान का घर है, जो भारत में वानिकी अनुसंधान के लिए एक प्रमुख संस्थान है।
  • रुड़की: रुड़की उत्तराखंड के उत्तरी राज्य में स्थित एक शहर है। यह अपने ऐतिहासिक स्थलों, जैसे रुड़की छावनी और गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के लिए जाना जाता है, और यह एक प्रमुख औद्योगिक केंद्र भी है।
  • मेरठ: मेरठ उत्तर प्रदेश के उत्तरी राज्य में स्थित एक शहर है। यह हस्तिनापुर वन्यजीव अभयारण्य जैसे ऐतिहासिक स्थलों के लिए जाना जाता है, और यह एक प्रमुख औद्योगिक केंद्र भी है।
  • गाजियाबाद: गाजियाबाद उत्तर प्रदेश के उत्तरी राज्य में स्थित एक शहर है। यह एक प्रमुख औद्योगिक और वाणिज्यिक केंद्र है और अपने ऐतिहासिक स्थलों जैसे इमामबाड़ा सिबतैनाबाद के लिए भी जाना जाता है।
  • नोएडा: नोएडा उत्तरी राज्य उत्तर प्रदेश में स्थित एक शहर है। यह एक प्रमुख औद्योगिक और वाणिज्यिक केंद्र है और अपने नियोजित लेआउट और आधुनिक बुनियादी ढांचे के लिए जाना जाता है।
  • दिल्ली: दिल्ली भारत की राजधानी है और अपने ऐतिहासिक स्थलों, जैसे कि लाल किला और इंडिया गेट, के साथ-साथ अपनी आधुनिक संरचना और सांस्कृतिक विविधता के लिए जानी जाती है।